Nice Day India

Thursday, 3 August 2017

लम्बे समय तक जीवन जीने के आसान उपाय:





लम्बे समय तक जीवित रहने की हर किसी को चाह होती है. चाहे पुराना युग हो या नया हर ज़माने में लोगो को लम्बा जीने की इच्छा रहती है सब चाहते हैं वो हस्ट-पुस्ट रहे और पुरे सो साल तक जियें आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में पोलुशन और केमिकल युक्त खान पान के बदलाव की वजह से हमारी जीने की उम्र में भी बदलाव हो गया है. पुराने जमाने में लोग १०० साल तक जीते थे आज १०० साल ६० साल में तब्दील हो चुकी है.
आज हमारी जीने की उम्र ६० साल मानी जा रही है ये हमारी दिनचर्या के बदलाव और खान पान के बदलाव का नतीजा है. घटती उम्र चिंता का विषय है. इसको  लेकर हमे कुछ अपने आप में और खान पान में बदलाव करने होंगे आइये जानें कैसे हम लम्बे समय तक जीवित रह सकते हैं, विश्व में जापान एक ऐसा देश है जहाँ के लोग लम्बे समय तक जीवित रहते हैं. परमाणु हमले के बाद ऐसा लग रहा था की जापान की जिंदगी जीने की उम्र छोटी रहेगी लेकिन वहां के कान पान की वजह से उन लोगों की उम्र लम्बी होती है:  



भोजन सब्जियां:
ये एक मजाक जैसा लगता है, लेकिन यह बिल्कुल सही है। सब्जी खाना ज्यादातर लोग पसंद नहीं करते हैं, लेकिन जापानी लोग ज्यादा सब्जियां खाते हैं, जापानी लोगों की भोजन की थाली में चावल, सब्जियों और मछली की खास जगह होती है. एक और चीज है जो जापान में बहुत प्रसिद्ध है और वो है, किण्वित सोया और समुद्री शैवाल। यह सुनिश्चित करता है कि विटामिन, खनिज और अन्य फाइटोकेमिकल्स की कोई कमी नहीं रहती है। पश्चिमी आदतों, का असर जापान में भी दिखने लगा है.  ब्रेड, मिठाई और परिष्कृत शर्करा में वृद्धि कुछ कारण हैं जो जापानी पोषण के स्वस्थ पहलू को बिगड़ते हैं।



खाना पकाने के अलग-अलग तरीके:
तैयारी, भूनना, छिड़कने, फ्राइंग, फेलिंग और धीमी गति से खाना पकाने के कुछ तरीके हैं जो जापानी खाना पकाने के लिए उपयोग करते हैं। सूप का एक कटोरा वहां के लोगों के भोजन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। आम तौर पर चावल के साथ वे शाकाहारी और मछली का सेवन करते हैं, जो अपने भोजन की फाइबर सामग्री को बढ़ाते हैं।



चाय:
चाय जापान में सबसे अधिक पेय है और जापानी खाद्य संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। विभिन्न किस्मो की चाय व्यापक रूप से उपलब्ध हैं. और दिन के किसी भी समय चाय उपयोगी में ली जा सकती है। हरी चाय (ग्रीन टी) सबसे आम प्रकार की चाय है, और जब किसी व्यक्ति को "चाय" का उल्लेख नहीं किया जाता है, तो यह हरी चाय है जिसे संदर्भित किया जाता है।  जापान में चाय की संस्कृति है। जापानी चाय में अधिकांश किस्मों में कॉफी की तुलना में अधिक एंटीऑक्सिडेंट होते हैं अधिक एंटीऑक्सिडेंट त्वचा को फ्रेश और जवान रखने में मदद करते हैं।



ताज़ा खाना:
जापानी भोजन सामग्री में ताज़ा भोजन का प्रचलन है। ऐसा माना जाता है कि जापान  में भोजन दिन के बजाय घंटों में होता है। वहां ताजा और मौसमी खाना खा रहे है जापानी लोग.  पूरी दुनिया में अनियंत्रित होने का एक रहस्य है।


छोटे प्लेट्स:
आपको अपने पेट की क्षमता का सिर्फ 80% हिस्सा ही खाना चाहिए। छोटी प्लेटों का उपयोग करना जापानी संस्कृति का शिष्टाचार है. हमे एक साथ पेट भर कर खाने से ज्यादा अच्छा है दिन में बार बार खाएं। और खाने का टाइम टेबल निर्धारित करना चाहिए। कोनसे समय क्या खा रहे हैं ये हमे डायरी में नॉट करना चाहिए। व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय निकल कर अपनी दिनचर्या डायरी में लिख ने की आदत डालनी होगी।



हमेशा हेअल्थी फ़ूड ही खाने चाहियें जंक फ़ूड और फ़ास्ट फ़ूड था स्पाइसी तले भुने खाने से दुरी बनाएं पुराने जमाने में लोग शुद्ध भोजन करते थे और लम्बे समय तक जीवित रहते थे. तो आज से ये नियम बना लें आर्गेनिक फ़ूड ही खायें। और अपनी लम्बी जिंदगी जियें।  

Share:

0 comments:

Post a Comment

Copyright © Nice Day India | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com