Nice Day India

Friday, 25 August 2017

दो महीने(weight loss two months) में 20 किलो तक घटाएँ, आइये जानें सुपर प्लान के बारे में:

दो महीने(two months weight loss plan) में 20 किलो तक घटाएँ, आइये जानें सुपर प्लान के बारे में

हेल्लो फ्रेंड्स मेरा नाम शिव है जिम में ट्रेनर हूँ आइये आज हम जल्दी से वेट लॉस करने के आसान तरीकों के बारे में जानेंगे, आज मोटापा एक अभिशाप बन गया है मैक्सिमम लोग जिम में अपना वेट कम करने ही आते हैं. मै डाइट प्लान के साथ में ग्रीन कॉफ़ी पिने की अड्वाइज़ देता हूँ कई पुरुष और महिलाएं यह सवाल पूछते हैं। ज़्यादातर कस्टमरों की समस्याएँ एक जैसी होती हैं, बैठे-बैठे ज़िंदगी बिताना, लगातार काम करना, अपने लिए समय ही नहीं होना। असल में बात यह है कि आम तौर पर एक बड़े ही सीधे सरल नियम को लोग नज़रअंदाज़ करते हैं, यह नियम है: जिंतनी केलोरी आप कहते हैं उससे ज्यादा जलाएं ! लेकिन लोग केलोरी ज्यादा कहते हैं और जलाते कम हैं उसकी की वजह से वजन बढ़ता है और इसीलिए लोग वजन नहीं घटा पाते हैं!



वजन कम करने के लिए डाइट के प्रकार हमें अपना वजन कम करने के लिए कैलोरीज़ का सेवन सीमित करना पड़ेगा। अलग-अलग डाइट में अलग-अलग प्रॉडक्ट के इस्तेमाल से कैलोरीज़ खाने की मात्रा सीमित की जाती है। पहली विधि
1 - आप वसा खाना कम नहीं कर सकतेऔर कई लोग तो वसा का सेवन कम करने को ही गलती से एक डाइट समझते हैं। यदि कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा सीमित नहीं की जाती है, तो शरीर को जरूरत से अधिक ऊर्जा मिलती रहेगी और इसलिए शरीर के लिये वजन घटाने का कोई कारण ही नहीं होगा।



दूसरी विधि 2 - आप प्रोटीन की मात्रा कम करसकते हैं लेकिन ये भी काम नहीं करेगा क्योंकि ऊर्जा का मुख्य स्त्रोत प्रोटीन नहीं बल्कि वसा और कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं। इसलिए, ऐसा करके वजन तभी कम हो सकता है जब आप साथ में वसा और कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन भी कम कर दें (जैसे, जब कोई महिला रोज-रोज सिर्फ सेब ही खाए)। लेकिन आपको यह समझना बहुत जरूरी है कि प्रोटीन के बगैर आपका शरीर एक तरह से “अंदर से खुद को ही खाना” शुरू कर देता है मतलब, वह मांसपेशियों के ऊतकों को तोड़ने लगता है (जिससे त्वचा ढीली पड़ जाती है और मसल्स कमजोर हो जाते हैं), और आपके आंतरिक अंग भी छोटे हो जाते हैं।




सबसे आसान विधि 3 - आप अपने शरीर को थोड़ा बेवकूफ़ बना सकते हैं। इसे आप उतना ही खाना खा कर मूर्ख बनाएँ जितना आप रोज खाते हैं, बस आप खाने में अघुलनशील रेशे, याइनसॉल्यूबल फाइबर (हेमीसेल्यूलोज़ और सेल्यूलोज़) और फैटी एसिड लेने लगें। इस तरह, हम बिना अपनी खाने की आदतों को बदले, बिना जरूरी चीजों की कमी करके या बिना शरीर को नुकसान पहुंचाकर वसा की मात्रा घटा सकते हैं। इस काम में ग्रीन कॉफ़ी बहुत मददगार है। मैं ग्रीन कॉफ़ी की सलाह “वजन घटाने की शुरुआत” कर रहे लोगों को भी देता हूँ।




ग्रीन कॉफ़ी में कई अनोखे तत्व पाए जाते हैं और इसलिए कई पेशेवर खिलाड़ी औरडायटीशियन इसे जल्दी वजन घटने के लिए एक सीक्रेट हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं। इसमें पाए जाने वाले पदार्थों के कारण ही इसे कई पेशेवर लोग चुनते हैं। क्लोरोजेनिक एसिड के अलावा ग्रीन कॉफ़ी में पाए जाते हैं: अन्य ऑर्गेनिक एसिड (लगभग 30 तरह के), अघुलनशील रेशे (सेमीसेल्यूलोज़ और सेल्यूलोज), प्यूरीन अल्कलॉइड (कैफीन और ट्रिगोनोलीन), फैटी एसिड (ओमेगा-6 लिनोलेइक एसिड (39-53%), पमिटिक एसिड (27-39%), ओमेगा-3 लिनोलेइक एसिड (2-3%)), टैनिन (टैनिक एसिड), विटामिन्स मैक्रो - और माइक्रोएलीमेंट्स (लोहा, फास्फोरस, सल्फर, पोटेशियम, आदि।), एमिनो एसिड, बीटाईन, कोलीन, तथा और भी उपयोगी पदार्थ। ग्रीन कॉफ़ी में पाया जाने वाला कैफीन सेंट्रल नर्वस सिस्टम को स्टिमुलेट करता है, शारीरिक और दिमागी एक्टिविटी को बेहतर करता है ,





और ग्रीन कॉफ़ी में ही पाया जाने वाला अल्कलोइड ट्रिगोनोलीन क्लोरोजेनिक एसिड की वसा जलाने की क्षमता को बहुत अधिक बढ़ा देता है। फेंफड़ों, ह्रदय और साथ ही मांसपेशियों की एक्टिविटी को भी स्टिमुलेट करने के अलावा कैफीन में एंटीस्पासमोडिक और एनल्जेसिक गुण भी होते हैं। इसके वैसोडाइलेटिव प्रभाव भी होते हैं, यह ऊतकों और अंगों तक रक्त प्रवाह बढ़ाता है, कार्बोहाइड्रेट के मैटाबॉलिज़्म और हेमाटोपोईएटिक फंक्शन को बेहतर करता है, यह लीवर के लिए अच्छा है, शरीर में से जहरीले पदार्थ बाहर करता है और खून को भी नियामित करता है।कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी नियंत्रित करता है। ग्रीन कॉफ़ी का उपयोग वेट कम करने में बहुत उपयोगी सिद्ध होता है एक बार आप भी उपयोग में ले कर देखें, मेरी तरह आप भी ग्रीन कॉफ़ी के दीवाने हो जाएंगे ये मेरा दावा है.




इसके अलावा भी बहुत तरीके हैं जिनको आजमा कर हम अपना वजन तेजी से कम कर सकते हैं आइये जानें कुछ टिप्स:
हमें सेहतमंद व फिट रखने में उनके आहर की अहम भूमिका होती है। हमारी जितनी मशीन्स पर डिपेंडेंसी बढ़ रही है जिसकी वजह से हम आराम परस्थ हो गए हैं और शारीरिक गतिविधियां कम दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है जिसकी वजह से ली गई कैलोरी फैट में फैट में बदल कर हमारे पेट के आस-पास जमा होने लगती है। अक्सर लोग वजन कम करने में लगे रहते हैं। पर अपने वेट को कम नही कर पते बिना अपनी डाइट, प्लान किये बिना आइये जानें कैसे अपने दिन की शुरुवात की जाये और किन किन बातों का विशेष ध्यान रखने की जरुरत है खाना खाने के बाद पानी पीने से बचें खाने के अन्त में पानी पीना उचित नहीं, बल्कि एक-डेढ़ घण्टे बाद ही पानी पीना चाहिए। अगर आपको ज्यादा प्यास लग रही है तो खाने के बाद एक कप हल्का गुनगुना पानी पीएं।





1.थोड़ा थोड़ा कहना बार बार खाएं तीन टाइम खाने की जगह थोड़ा-थोड़ा करके कई बार खाएं। हर दो घंटे में कुछ ना कुछ खाते रहें। इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म तो ठीक रहता ही है साथ ही ऊर्जा का स्तर भी बना रहता है।
2. खाने में प्रोटीन की मात्रा बढाएं खाने में प्रोटीन की मात्रा बढाएं। जैसे अंडे का सफेद भाग, फैट फ्री दूध व दही, ग्रिल्ड फिश और सब्जियां आपको तंदुरस्त व स्लिम फिट बनाएंगी।
3. शहद गुणों की खान है। जैसा कि हम सब जानते हैं शहद गुणों की खान है। यह मोटापा कम करने में भी कारगार है। रोजाना सुबह गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पीएं। नियमित रुप से इस प्रक्रिया को अपनाने से आपको जल्द ही असर दिखाई देने लगेगा।





4. ग्रीन टी अगर आप चाय पीते हैं, तो आप दूध की चाय पीने के बजाय एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर ग्रीन टी, या फिर ब्लैक टी पियें। इसमें थायनाइन नामक अमीनो एसिड होता है जो मस्तिष्क में ऐसे केमिकल्स का स्त्राव करता है और आपकी भूख पर कंट्रोल करता है।
5. रोजाना सुबह सैर पर जाएं रात के खाने के बाद भी सैर करना ना भूलें। इससे पेट और कमर की अतिरिक्त कैलोरी कम करने में मदद मिलेगी। पेट जल्दी कम करना है तो तीस मिनट के वॉक सेशन रखें। लगातार स्पीड से ना चल सके तो बीच में इंटरवल लें। थोड़ी देर तेजी से चलें और फिर स्पीड कम कर लें।




6. तरल पदार्थों का सेवन करें:
जैसे- पानी, नींबू पानी, दूध, जूस, इत्यादि या किसी दिन सिर्फ सलाद या फल भी ले सकते हैं।
7. खान पान का रखें विशेष ध्यान: यदि आप जंकफूड खूब खाते हैं या फिर आपको तैलीय खाना बहुत पसंद है तो अब इनसे परहेज करना शुरू कर दें। खाने में खासतौर पर सामान्य आटे के बजाय जौ और चने के आटे को मिलाकर चपाती खांए, इससे आप जल्द ही स्लिम ट्रि‍म होंगे।
8.भरपूर नींद लें संतुलित आहार व व्यायम के साथ पर्याप्त नींद लेना भी जरूरी है। नींद पूरी ना होने पर तनाव बढ़ाने वाले हार्मोन्स रिलीज होते हैं जो आपको खाने के लिए प्रेरित करते है जिससे पेट की चर्बी बढ़ती है। रात में 6 से 7 घंटे सोने वाले लोगों में पेट का फैट कम होता है।



Share:

0 comments:

Post a Comment

Copyright © Nice Day India | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com